ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
यह कैसा पड़ाव
June 14, 2020 • मीरा सिंह 'मीरा' • कविता

*मीरा सिंह 'मीरा'
प्यार है ना सद्भाव है
यह कैसा पड़ाव है।

दर्द सा दिल में होता है
महसूस सबको होता है ।
महफिल के कहकहों में
दिल छिप छिपकर रोता है।।
स्नेह में पगे बोल नहीं है,
संवेदनाओं का अभाव है।

अपने भी अपनों से अब
खींचे -खींचे से रहते हैं ।
एहसासों के पर भी
कुतरे हुए से लगते हैं ।।
रिश्तो के नाम पर यूं
मिलता नित नया घाव है।

सुख दुख  साथ बांटे
कहां हैं वो रिश्तेनाते ।
खुशियों के मौसम में
दर्द होठों पर मुस्काते।।
दो घड़ी जहां थे सुस्ताते
गया कहां वह छांव है।

गर्मियों का मौसम है
रिश्तो पर बर्फ जमी है।
अपने ही साए से मीरा
सहमा हर आदमी है
न एहसासों में गर्मी जरा
न अपनेपन का अलाव है।
यह कैसा  पड़ाव है?
*डुमरांव जिला बक्सर बिहार
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw