ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
यादें जीवन की
June 17, 2020 • रुपेश कुमार • कविता
*रुपेश कुमार
(अभिनेता सुशांत सिंह की आत्महत्या पर) 
 
इतनी-सी क्या देर हो गई तुझे ,
तुम्हें आए कितना दिन हुआ ,
ऐसे कोई थोड़े जाता है भला क्या ,
ये जिंदगी कोई खेल थोड़े है ,
 
चौतीस यैवन देख चुके तुम ,
क्या इतना ही ज्यादा हो गई ,
इस छोटी-सी जिंदगी मे ,
जीवन क्यों मजबूर हूई ,
 
अभी सारा जीवन बाकी था ,
शुरुआत तो अब हुई थी ,
दूसरे की हौसला देने वाले ,
स्वयं क्यूँ तू हार गए तुम ,
 
इस नश्वर दुनिया मे तुम ,
मौत को क्यूँ दोस्त बना लिए तुम ,
अभी और अधियारा आता भी ,
इतनें मे क्यूँ हार गए तुम ,
 
जीने का सलीका सिखाने वाले ,
स्वयं सलीका भुल गए तुम ,
युवा जीवन के पायदान पे चढ़ते ,
दुनिया से क्यूँ रूठ गए तुम ,
 
सबके चेहरे पे हँसी लाने वाले ,
स्वयं डिप्रेशन मे चले गए तुम ,
इस बेखुदी दुनिया मे ,
जीवन से हार गए तुम !
*पुरानी बजार चैनपुर सीवान
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw