ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
व्यसन सबसे बडा रोग
November 8, 2019 • सुनील कुमार माथुर • लेख

*सुनील कुमार माथुर*
देश भर में आज बालिका शिक्षा पर जोर दिया जा रहा है जो देश की तरक्की व उत्थान के लिए एक शुभ संकेत है । हम देख रहे है कि आज की नारी हर क्षेत्र में पुरूषो के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं । वही छात्राएँ मैरिट लिस्ट में लडको से अधिक अंक हासिल कर आगे बढ रही है । अतः सरकारी प्रयासों के साथ ही साथ आमजन को भी बालिका शिक्षा हेतु हर सम्भव प्रयास करने चाहिए व शिक्षा के प्रति जागरूक रहना चाहिए और शिक्षा के अलख को निरन्तर बनाये रखना चाहिए । इतना ही नहीं प्रतिभा सम्मान समारोह के पवित्र यज्ञ में भामाशाहाओ का सकारात्मक सहयोग मिलता रहना चाहिए ।
           शिक्षा के बदौलत ही कोई समाज व राष्ट्र अपने मुकाम पर पहुंच पाता है । असफलता से हार नहीं माननी चाहिए बल्कि हमें और ज्यादा मेहनत कर अपनी मंजिल प्राप्ति के लिए अध्ययन करना चाहिए । व्यसन सब से बडा रोग है जो तरक्क़ी की दीमक की तरह चाट लेता है । ग्रामीणों को खास तौर पर कुरीतियों के नाम पर व्यसन से मुक्ति के प्रयास करने होगे । 
       आज हर भारतीय जीवन का अर्थ समझे , सकारात्मक चिंतन करे , आशावादी रहें, लक्ष्य बडा रखकर अपने पौरूष, परिश्रम और पसीने की पराकाष्ठा दर्शाते हुए कठिनाइयों पर विजय प्राप्त करें तो सफलता अवश्यंभावी है । इसके साथ ही सामाजिक सरोकारों सेजुडकर अपनी सहभागिता निभाये आज लडकियों ने यह साबित कर दिया कि लडकिया भी किसी से कम नहीं है । जीवन में मौका मिले तो वे बहुत कुछ करके दिखा सकती है । इनमें प्रतिभा, योग्यता, एकाग्रता, कर्मठता सब कुछ है । इसे देखते हुए लडकिया अब न समाज पर बोझ है और न पराये घर की मानी जानी चाहिए ।
              स्त्री शिक्षा को बढावा देने के साथ ही साथ यह भी जरूरी है कि इनकी उपेक्षा न करे , भेदभाव समाप्त करे और उन्हें प्रतिष्ठता देते हुए विकास के भरपूर अवसर दे और समाज से बालिका भ्रूण हत्या के पाप को समाप्त करे । जो चिकित्सक भ्रूण हत्या करते हैं उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही हो । अगर यही स्थिति रही तो अनुपात इतना गडबडा जायेगा कि लोग अपने बेटों के लिए बहुएं कहां से लायेगे ।
 
*सुनील कुमार माथुर ,33 वर्धमान नगर शोभावतो की ढाणी खेमे का कुआ पालरोड जोधपुर राजस्थान पिन 342001
 

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733