ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
वो बचपन वो नादानियाँ 
November 17, 2019 • राजीव डोगरा • कविता

*राजीव डोगरा*

वो बचपन वो नादानियाँ 
न जाने
अब कहाँ चली गई,
घूमता फिरता था जहाँ
वो हसीन वादियाँ भी
न जाने
अब कहाँ चली गई।
बैठ जिस नदी किनारे
करता था अठखेलियां 
वो नदी भी न जाने 
अब कहाँ चली गई,
वो आम का वृक्ष
बैठ जिसके नीचे 
देखता था अंबर और अवनि को
वो वृक्ष भी न जाने
अब कहाँ चले गए।
एक सखी थी
बड़ी प्यार सी
एक सखा था 
बड़ा नटखट सा
मिल तीनों करते थे।
बड़ा धूम धड़ाक
पर न जाने 
समय के पांव के संग
अब वो कहाँ चले गए
न अब बचपन रहा
न अब नादानियाँ रही
दोनों मिल अब 
न जाने
कहाँ दूर चले गए।

*राजीव डोगरा,ठाकुरद्वारा मो.9876777233

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733