ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
वक़्त की लय गगन सी होती है
May 2, 2020 • बलजीत सिंह बेनाम • गीत/गजल

*बलजीत सिंह बेनाम

वक़्त की लय गगन सी होती है
सबको इससे चुभन सी होती है

साथ जिसके चला हूँ बिन उसके
दो क़दम पर थकन सी होती है

चाँदनी को छुआ नहीं है मगर
ये तेरे बाँकपन सी होती है

तय सफ़र ज़िंदगी का हो जाए
नींद इतनी गहन सी होती है

शान की क्या गरज़ ग़रीबों को
कोठियों में घुटन सी होती है

*बलजीत सिंह बेनाम, हाँसी

 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw