ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
उड़ती अफवाएं 
April 24, 2020 • संजय वर्मा 'दॄष्टि • कविता

*संजय वर्मा 'दॄष्टि'
अफवाएं भी उडती
जैसे जुगनुओं ने मिलकर
जंगल मे आग लगाई
तो कोई उठ रहे कोहरे को
आग से उठा धुंआ बता रहा
तरुणा लिए शाखों पर 
आमों के बोरों के बीच
छुप कर बैठी कोयल
जैसे पुकार कर कह रही हो
बुझा लों उडती अफवाओं की आग
मेरी मिठास सी 
कुहू -कुहू पर ना जाओं
ध्यान दो उडती अफवाओं पर
सच तो ये है की अफवाओं से
उम्मीदों के दीये नहीं जला करते
बल्कि उम्मीदों पर पानी फिर जाता 

*संजय वर्मा 'दॄष्टि',मनावर (धार)

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे- http://shashwatsrijan.com
यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw