ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
उदाहरण
July 19, 2020 • ✍️प्रो.शरद नारायण खरे • कहानी/लघुकथा

✍️प्रो.शरद नारायण खरे
वह हट्टा-कट्टा बॉडी बिल्डर-सा दिखने वाला आदमी चलती हुई बस में दो की सीट पर अकेला फैलकर ऐसे बैठा हुआ था मानो पूरी बस का मालिक वही है ! उसे देखकर पिछले स्टॉप पर चढ़ा हुआ एक दुबला -पतला किशोर वय का लड़का अपनी बैशाखी संभालते हुए आगे बढा,और हिम्मत करके उस तगड़े आदमी से डरते-डरते बोला -" भाईसाहब थोड़ा खिसक जाइए न,मैं भी बैठ जाऊंगा !'
इस पर उस पहलवान ने ऐसे घूरा मानो उस लड़के ने कोई अपराध कर दिया हो ! फिर लगभग गुर्राते हुए कहा-" तुम्हें दिख नहीं रहा क्या ? सीट खाली कहां है कहां ?"
"भाईसाहब जी,दो लोग बैठते हैं !" लड़के ने जवाब देने की हिम्मत जुटा ही ली !
"ले बैठ जा,ज़िद करता है तो !" कहकर वह आदमी थोड़ा -सा कुछ इस तरह खिसक गया ,मानो बहुत बड़ा अहसान कर रहा हो !
तभी अगले स्टॉप पर एक बूढ़ी औरत हांफते -हूंपते सिर पर एक पोटली रखे बस में दाखिल हुई,और चारों ओर नज़र घुमाकर भरी हुई बस देखकरनिराश होकर,चुपचाप एक ओर खड़ी हो गई !
यह उस विकलांग लड़के से न देखा गया ,वह बहुत ही विनम्रता से उस औरत की ओर मुख़ातिब होकर बोला-" माताजी ,आप इधर मेरी जगह बैठ जाइए,मैं खड़ा हो जाता हूं !" इस पर उस तगड़े आदमी ने उस लड़के को यूं घूरा,मानो उसने कोई आश्चर्यजनक बात कह दी हो !
"नहीं बेटा,तुम तो बैठे रहो,तुम तो वैसे भी शरीर से दिक्कत में दिख रहे हो ,पर बिटवा तुम तो भगवान की दया से ठीक हो तुम खड़े हो जाओ न !" बूढ़ी मां ने एक साथ उन दोनों से कहा !
"नहीं ,मैं क्यों खड़ा होऊं ? आपको बैठना है तो इस लड़के की जगह पर बैठ जाओ,यह भी तो मेरी ही सीट है,मैंने  ही इसे दी है !" वह आदमी  ऐंठते हुए स्वर में बोला !
"प्लीज माताजी,आप मेरी जगह पर बैठ जाइए न ।मुझे कोई परेशानी नहीं ।मुझे परेशानी तो तब होगी,जब एक वृध्द मां खड़ी रहेगी ,और बेटा बैठा रहेगा ।"
यह सुनकर बस के सारे लोग उस शारीरिक विकलांग लड़के की ओर देखने लगे,क्योंकि उसने बड़प्पन और मानवता का एक ऐसा बडा उदाहरण पेश कर दिया था ,जिसके आगे सारे बौने हो गए थे ।तथा वे सब ये भी जान चुके थे कि असली विकलांग वह लड़का नहीं,बल्कि उस हट्टे-कट्टे आदमी सहित बस के सारे लोग लोग हैं ।
*मंडला(म.प्र.)

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw