ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
सुशांत केस में बंधी अब न्याय की उम्मीद
August 19, 2020 • ✍️कैलाश गर्ग रातड़ी • लेख

✍️कैलाश गर्ग रातड़ी
बॉलीवुड के जाने माने सितारें सुशांत सिंह राजपूत जिन्होंने छिछोरे, पीके, केदारनाथ, एमएस धोनी जैसी सुपरहिट फिल्मों में काम करके अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया था । पटना जैसे शहर से निकलकर मुम्बई के बॉलीवुड में अपनी धाक केवल अपने कार्य के बल पर जमाई थी । वर्तमान में बॉलीवुड पर भाई-भतीजावाद का आरोप लग रहे हैं । इन सब आरोपों के बीच सुशांत ही एक ऐसा चेहरा था जिसका पारिवारिक बैकग्राउंड बॉलीवुड से संबंधित न होकर भी इस मुकाम तक पहुँचकर इस थ्योरी को गलत साबित किया था । हालाँकि भाई भतीजावाद का आरोप कोई नया नही हैं । फ़िल्मी दुनिया के छोटे से सफर में भी छिछोरे, एमएस धोनी आदि फिल्मों में जिस तरह अभिनय करके संवाद किये, वो वाकई लाजवाब थे । जिस तरह का मोटिवेशन वो दूसरों को दिया करते थे ,असल जिंदगी में उन बातों को वो अपने जीवन पर लागू कर नही पाए । उनके इस जीवन का अंतिम अध्याय बदनुमा दाग के तौर पर आत्महत्या के रूप में लगा । जो आत्महत्या को एक अभिशाप समझता हो, कायरता समझता हो वो खुद एक दिन इस तरह से अपने जीवन की ईहलीला समाप्त कर देगा ,वाकई अकल्पनीय हैं । 14 जून को अचानक सुशांत सिंह राजपूत के अपने घर में ही फांसी लगाकर जान देने की खबर वायरल हुई तो सहसा किसी को विश्वास नही हुआ । क्योंकि ये एक अपने आप में अकल्पनीय घटना थी । कुछ दिन पहले 8 जून को ही सुशांत सिंह की पूर्व मैनेजर दिशा सालियान की भी 14वीं मंजिल से गिरकर संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी, जिसे भी आत्महत्या बताया गया था । उक्त घटनाक्रम के चंद दिनों बाद अचानक ऐसा क्या हो गया कि उनको भी इसी तरह का कदम उठाना पड़ा । साधारण से परिवार में जन्म लेने के बाद जिस तरीके की इज्जत कमाई थी ,वो हर किसी को प्राप्त नही होती । जिस व्यक्ति का चाँद पर भी अपना प्लॉट हो, उसके लिये इस धरती पर तो कोई चीज पहुँच से बाहर थी ही नही। लेकिन इस सब पर कोरोनाकाल के दौरान ग्रहण लग गया । सुशांत की आकस्मिक मौत के बाद ये रहस्य बन गया कि ये हत्या है या आत्महत्या ? इस विषय की जाँच को लेकर महाराष्ट्र एवं बिहार की सरकारें आमने-सामने थी । सुशांत केस की जाँच मुम्बई पुलिस कर रही थी । लेकिन सुशांतसिंह राजपूत के पिता कृष्ण किशोर सिंह ने सुशांत की महिला मित्र रिया चक्रवर्ती एवं उसके परिवार सहित छः सदस्यों पर अपने बेटे के ख़ुदकुशी के लिये मजबूर करने सहित कई गंभीर आरोप लगाकर पटना में रिपोर्ट दर्ज कराई थी । इसी रिपोर्ट के आधार पर बिहार पुलिस जाँच हेतु मुम्बई गई थी । वहाँ जाने के बाद मुम्बई पुलिस और बिहार पुलिस में तकरार और ज्यादा बढ़ गई । बीएमसी अधिकारियों द्वारा मुम्बई में विनय तिवारी जो कि बिहार पुलिस में आईपीएस अधिकारी है एवं इस जाँच टीम का हिस्सा थे, उन्हें जबरन क्वारेंटाइन कर दिया था । बिहार पुलिस जिस तरह से जाँच कर रही थी उसके समर्थन एवं क्वारेंटाइन को लेकर देशभर से मुम्बई पुलिस की काफी आलोचना हुई थी । दोनों राज्य की पुलिस के साथ साथ प्रवर्तन निदेशालय भी इस मामले में मनी लॉन्ड्रिंग की जाँच कर रहा था । सुशांत के बैंक खातों से करोड़ो रूपये के हेर-फेर को लेकर परिवार वालों ने रिया चक्रवर्ती पर संगीन आरोप लगाए थे ।
बिहार पुलिस के खुलासों, ईडी की दबिश और सुशांत के परिवार के आरोपों के बाद देशभर में इस केस की सीबीआई जाँच की मांग तेजी से उठ रही थी । बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सीबीआई जाँच की सिफारिश की तो महाराष्ट्र सरकार ने इसे राजनीतिक स्टंट बताते हुए सीबीआई जाँच से साफ इनकार कर दिया । महाराष्ट्र और बिहार दोनों सरकारों ने इस विषय को नाक का सवाल बना दिया था । लेकिन बुधवार को न्यायाधीश हृशिकेश रॉय की बेंच ने सुप्रीम कोर्ट में फैसला सुनाते हुए सुशांत केस की जाँच सीबीआई को सौंप दी । साथ ही पटना में दायर हुई एफआईआर को भी उचित ठहराते हुए मुम्बई पुलिस द्वारा अब तक की गई जाँच से असंतोष व्यक्त किया ।
देर आए दुरस्त आए, ये जनभावना की जीत हुई हैं । अब सीबीआई जाँच के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंचा जायेगा कि ये हत्या है या आत्महत्या ? इन सब अटकलों पर अब सीबीआई जांच के बाद स्वतः ही विराम लग जायेगा । 
रिया चक्रवर्ती जिस पर सुशांत को ख़ुदकुशी करने के लिये मजबूर करने का आरोप है , वहीं वो स्वयं इस मामले में अपनी भूमिका से साफ इनकार कर रही हैं। वो इस मामले के लिये सुशांत की बहनों को जिम्मेदार बता रही हैं । वहीं सुशांत के परिवार द्वारा सार्वजनिक रूप से सोशल मीडिया पर वीडियो जारी करके ये जताया जा रहा हैं कि उनकी बहनों के साथ किसी भी प्रकार की कोई अनबन नही थी । हाल ही में सुशांत सिंह के अनेकों वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे जिसमें वे अपने परिवार के साथ मस्ती करते नजर आ रहे हैं , भजन गाते हुए ध्यान मुद्रा में तल्लीन हुए नजर आ रहे है । उनके हाव भाव को देखकर ऐसा कतई नही जाहिर किया जा सकता कि उनके मन में कोई घबराहट हो।  फिर अचानक ऐसा क्या हो जाता हैं कि सुशांत रिया के संपर्क में आने के बाद घरवालों से दूरी बना लेता हैं।  अपना घर और समस्त निजी स्टाफ को बदल देता हैं । अचानक से सुशांत का डिप्रेशन में चले जाना, सुशांत द मानसिक रूप से अस्वस्थ बताकर पूजा पाठ, हवन इत्यादि कराना, दवाईयों का सेवन करना इत्यादि । ये सब ऐसे अनसुलझे पहलू है जो इस घटना को शक में तब्दील कर रहे हैं । खैर अब सीबीआई इन सभी पहलुओं की गम्भीरता से जाँच करके एक निष्कर्ष पर पहुंचेगी तथा सुशांत के चाहने वाले करोड़ो प्रशंसकों को भी दूध का दूध ,पानी का पानी करके जल्द न्याय प्रदान करेगी ।
 
*बाड़मेर राजस्थान

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw