ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
सुख
April 19, 2020 • माया बदेका • कहानी/लघुकथा

*माया बदेका
भागमभाग की जिंदगी।कभी व्यापार के सिलसिले में दस दिन बाहर तो कभी कभी शहर में रहकर भी रात, बारह बजे तक घर नहीं आना। जिंदगी बड़ी तेजी से भागी जा रही थी और मुकेश को पल भर भी फुरसत नही थी।
मां कहती तो कह देते कि, यही समय है कमाने का। पत्नि कहती तो कभी कभी गुस्से में पारा चढ़ जाता की ,---कमाउंगा नहीं तो यह सब सुविधाएं कहां से मिलेगी। तुमको घर में बैठकर क्या पता चलता है।
हर दिन व्यंग्य सुनकर वीणा ने बोलना ही बंद कर दिया।
अचानक परिस्थितियों ने सबको घर में रहने को मजबूर कर दिया। मुकेश को इन दिनों में लगा की कितना भागा में। जरुरत तो परिवार के प्यार की थी,जरूरत तो स्नेह की थी। भौतिक सुखों में आज कुछ काम नहीं आ रहा था। बस एकसाथ बैठकर बतियाता परिवार सब सुखों से उपर था।
 
*माया बदेका, उज्जैन (म.प्र.)

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com