ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
सियासत न कीजिए (गजल)
October 18, 2019 • admin

*प्रो.शरद नारायण खरे*

दीवार उठाने की सियासत न कीजिए ,
सच बोलूंगा ज़रूर शिकायत न कीजिए

जो प्यार के संसार में,कांटों को बिखेरे,
ऐसी तो मिरे भाई इनायत न कीजिए

कल का जहाँ क्यों आज से झगड़ों में ही रहे,
जो बांट दे दिलों को वसीयत न कीजिए

ये मुल्क़ मुहब्बत का इक चमन था दोस्तो,
मज़हब सँभाल, मैली  विरासत न कीजिए

पश्चिम से आके दस्तक़ें,देती हैं तबाही,
निज व्दार खोल उनकी इबादत न कीजिए

इंसानियत के दायरे के पार हो " शरद",
ऐसी तो आप मुझसे अदावत न कीजिए


*प्रो.शरद नारायण खरे ,मंडला(म.प्र.)मो.9425484382

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733