ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
शरद का चांद (दोहे)
October 11, 2019 • admin

 *प्रो.शरद नारायण खरे*
चंदा देता चांदनी,देता शीतल नेह ।
पुलकित तन हर एक के,उल्लासित है देह ।।

शुभ्र ज्योत्सना है मधुर,छेड़े मधुरिम राग ।
ऐ मेरे अनुराग अब,क्योंकर ना तू जाग ।।

अमिय बरसता है सतत्,अब तो सारी रात ।
प्रकृति दे रही ऐ 'शरद',यह नेहिल सौगात ।।

उजला सबका तन हुआ,मन भी निखरा ख़ूब ।
हर इक श्रंगारिक हुआ,गया नेह में डूब ।।

जीवन का आनंद यह,जीवन का है सार ।
पूरणमासी यह प्रखर,है रोशन संसार ।।

आज कलाधर काम है,मारे तीखे तीर ।
जिनके मन कोमल 'शरद',घायल हुये शरीर ।

यमुना तट पर गोपियां,जुटीं कन्हैया संग ।
रास रचाते मुक्त हो,नृत्य-राग के रंग ।।

उजियारा जीवन रहे,कहे पूर्णिमा आज ।
अँधियारे में डूबकर,दर्द न गहे समाज ।।

"शरद पूर्णिमा" दोस्तो,है सचमुच वरदान ।
मिले हर इक को वर्ष भर,जीने का सामान ।।

सुख का पल फिर से मिला,ईश्वरीय संयोग ।
आओ हम बिखरें नहीं,बन जाये बस योग ।।


 *प्रो.शरद नारायण खरे,मंडला(मप्र)मो.9425484382

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733

यह भी पढ़े-

विकास के कुछ आयाम जो कितने हानिकारक हैं

आधुनिक जीवनशैली मे तेजी से बिगडता जा रहा मानसिक स्वास्थ

महाराजा अग्रसेन का उपकारहीन उपक्रम: एक निष्क और एक ईंट