ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
संवेदना अपनत्व एवं सहयोग की भावना को जगा दी
May 31, 2020 • सुश्री हेमलता शर्मा

किसने सोचा था कि कोविड-19 जैसा छोटा-सा तुच्छ विषाणु पूरी दुनिया की जीवन शैली परिवर्तित कर देगा ? जनवरी 2020 से चीन के वुहान से जन्मे इस विषाणु ने हमारी सोच से भी कम समय में विश्व के लगभग सभी देशों में अपनी गहरी पैठ बना ली । हमारा देश भी इससे अछूता नहीं रहा इससे बचाव का एकमात्र उपाय था- लाकडाउन । 
लॉकडाउन क्या हुआ जैसे पूरी दुनिया रुक गई । लोगों को लगा कि क्या हम ऐसे जी सकते हैं ? प्रारंभ में थोड़े परेशान, हरबढ़ाए, घबराए-से रहे । बाद में इसे सहज रूप में लेकर इससे सुरक्षित रहने के उपाय खोजने लगे । मेरी भी दिनचर्या ही बदल गई । द्वितीय श्रेणी राजपत्रित अधिकारी होने के साथ घर की जवाबदारी, साहित्य सृजन, मालवी बोली के संरक्षण एवं संवर्धन हेतु समय बहुत कम लगता था ।  लेकिन लाकडाउन में वर्क फ्रॉम होम के साथ जीवन जैसे रुक-सा गया । कोरोना के बढ़ते मरीजों की संख्या देख-देख कर मन दुख एवं अवसाद से भर रहा था, वही लाकडाउन ने एक दृढ़ निश्चय और मजबूती से जीने का जज्बा सिखा दिया । पहले जहां हम फल और सब्जियों के बिना नहीं रह पाते थे वहीं  लगभग डेढ़ माह तक बिना उसके गुजारा किया । इससे यह सीखने को मिला कि व्यक्ति सीमित वस्तुओं में भी जीवन यापन कर सकता है ।  पहले लगता था की रिटायरमेंट के बाद आदमी घर पर कैसे रहता होगा वही एहसास लाकडाउन करा गया । मन में सभी के प्रति संवेदना अपनत्व एवं सहयोग की भावना को जगा गया । कोरोना से दुनिया में लोगों के बेबस होकर मरने की खबरें देख सुनकर जीवन की नश्वरता का एहसास हुआ । इस लाकडाउन ने कोरोना से लड़ने की इच्छा को मजबूती प्रदान की ।  मैंने मन साहित्य सृजन में लगाया और हरिशंकर परसाई जी के एक उपन्यास को मालवी में रूपांतरित कर डाला । यह लाकडाउन की मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि रही । यह मालवी बोली के साहित्य को पढ़ने का लोगों में रुझान उत्पन्न करेगा। इस लाकडाउन ने मितव्ययिता की एक अच्छी आदत सिखा दी जो आजीवन हमारे काम आएगी। 
*सुश्री हेमलता शर्मा,भोली बैन,आगर-मालवा,मध्य प्रदेश

 

इस विशेष कॉलम पर और विचार पढ़ने के लिए देखे- लॉकडाउन से सीख 

अपने विचार आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw