ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
रोशनी बन जगमगाओ (कविता)
October 26, 2019 • admin
 
*रूपेश कुमार*
प्यार का दीपक ज़लाओ इस अंधेरे मे ,
रुप का जलवा दिखाओ इस अंधेरे मे ,
दिलो का मिलना दिवाली का ये पैगाम ,
दुरिया दिल का मीटाओ इस अंधेरे मे !
 
अजननी है भटक न ज़ाए कही मंजिल ,
रास्ता उसको सुझाओ इस अंधेरे मे ,
ज़िन्दगी का सफर है मुश्किल इसलिए ,
कोई हमसफर हमदम बनाओ इस अंधेरे मे !
 
हाथ को न हाथ सुझे आज का ये दौर ,
रोशनी बन जगमगाओ इस अंधेरे मे ,
अंध विश्वासो के इस मन्दिर मजारो मे ,
सत्य की शमा ज़लाओ इस अंधेरे मे !
 
रोशनी बन जगमगाओ इस अंधेरे मे !
 
*रूपेश कुमार,चैनपुर,सीवान बिहार
 

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733