ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
रंगीला सावन
July 23, 2020 • ✍️बलजीत  सिंह • कविता


          ✍️बलजीत  सिंह
       गरज-गरजकर आये बादल,
       हवा हिलाये पेड़ों की चोटी ।
       पंख फड़फड़ाने लगे परिन्दें  ,
       जब गिरी धरा पर बूंदें मोटी ।।

       चिड़ियां चहकी गदराई बेल  ,
       हवा-पानी का अद्भुत मेल ।
       सुरूर सावन का ऐसा छाया ,
       बिल से बाहर अजगर आया ।।
       बकरी-मुर्गा मुड़-मुड़ देखे ,
       कुत्ता खाये भीगी रोटी ।।
       पंख फड़फड़ाने लगे परिन्दें ,
       जब गिरी धरा पर बूंदें मोटी ।।

       गिलहरी सुने कोयल का गाना ,
       चूहा खाये छुप-छुपकर दाना ।    
       मोर मस्ती में हुआ मग्न ,
       तितली रानी का भीगा बदन ।
       आसमानी बिजली कड़कने पर ,
       जोर से भागी हिरण छोटी ।।
       पंख फड़फड़ाने लगे परिन्दें  ,
       जब गिरी धरा पर बूंदें मोटी ।।

       पानी बरसा फसल लहराई ,
       नदी-झरनों ने ली अंगड़ाई ।
       उठे सागर में लहरें तेज ,
       इंद्रधनुष की सतरंगी सेज ।।
       टूटी डाल पर थिरक-थिरककर ,
       नाच दिखाये बंदरिया खोटी ।।
       पंख फड़फड़ाने लगे परिन्दें  ,
       जब गिरी धरा पर बूंदें मोटी ।।
       
       गरज-गरजकर आये बादल,
       हवा हिलाये पेड़ों की चोटी ।
       पंख फड़फड़ाने लगे परिन्दें  ,
       जब गिरी धरा पर बूंदें मोटी ।।

राजपुरा(सिसाय),जिला -हिसार ( हरियाणा )

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw