ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
प्रिय, रक्षाबंधन
August 2, 2020 • ✍️नीलम खरे • गीत/गजल

✍️नीलम खरे
भावों का है मेला,मन चहके ,महके सावन।
लगता सबको सुखकर, प्रिय, रक्षाबंधन ।।

अहसासों की बेला,प्रीतातुर यह बंधन
नेह पल्लवित होता,उल्लासित  जीवन
कजरी,झूले,मेले,टिकुली,चटख रंग की मेंहदी
सावन का ये पर्व अनूठा,खुश भाई-दीदी

शुभ-मंगलमय गीत,पर्व का अभिनंदन ।
लगता सबको सुखकर, प्रिय, रक्षाबंधन ।।

बहना का दिल मंदिर,अंतर्मन गीता 
वीरा भी भावों में ,कोय नहीं रीता 
गली,मोहल्ले,सारी बस्ती में खुशियां
महल,झोंपड़ी खुश,हर इक की खुश दुनिया

बेटी आई पीहर से,हर्षित आँगन ।
लगता सबको सुखकर, प्रिय, रक्षाबंधन ।।

बचपन की मधुरिम यादों का,यह उपवन
पावन और निष्कपट है रक्षाबंधन 
धागा कच्चा,पर पक्का, ना यह टूटे
धर्म,नीति कहती है,साथ नहीं छूटे

कर पर राखी,माथे टीका, है वंदन ।
लगता सबको सुखकर, प्रिय, रक्षाबंधन ।।
*मंडला(मप्र)

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw