ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
प्रकृति है सृजन
June 9, 2020 • प्रफुल्ल सिंह 'बेचैन कलम' • कविता
*प्रफुल्ल सिंह 'बेचैन कलम'
 
जब से तेरी देह को छू आये हैं नयन
भूल गया हूँ भोजन भूल गया शयन
 
लगता है तेरी देह को छू आई है पवन
महक उठी है साँसे बहक गया ये मन
 
छूती मेरी उंगलियाँ जब भी तेरा तन
लागे जैसे बाँसुरी को चूमते किशन
 
वन में खोजे कस्तूरी भटक रहा हिरन
लगाले तू गले और मिटा दे ये अगन
 
भँवरे की छुअन से खिल जाने दे सुमन
सृजन है प्रकृति प्रकृति है सृजन। 
*लखनऊ, उत्तर प्रदेश
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw