ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
पूरा इक संसार पिता हैं
June 21, 2020 • प्रो.शरद नारायण खरे • गीत/गजल


*प्रो.शरद नारायण खरे

अहसासों का सार पिता हैं,
विश्वासों से प्यार पिता हैं ।

परम पिता की संतानों को,
सचमुच में उपहार पिता हैं ।

गहन तिमिर को परे हटाकर,
फैलाते उजियार पिता हैं ।

सूरज,चंदा,धरती,तारे,
पूरा इक संसार पिता हैं ।

दुख,पीड़ा,ग़म,व्यथा,वेदना,
में हरदम हथियार पिता हैं ।

जब भी कोई विपदा आई,
तब-तब तो हथियार पिता हैं।

मेरे मन की पीड़ाओं का,
सतत्,सघन संहार पिता हैं ।

अच्छाई औ' सच्चाई का,
सचमुच में अभिसार पिता हैं ।

बिन उनके असहाय सदा हम,
हम सबके हथियार पिता हैं ।

जीवन में रौनक के मेले,
खुशियों की झंकार पिता हैं ।

हर पल उनके बिन है सूना,
मधुवन का आसार पिता हैं ।

साथ सभी लगते बेमानी,
बस जय जय जयकार पिता हैं ।

'शरद' यही माने है हरदम,
ईश्वर का आकार पिता हैं ।
*मंडला(मप्र)

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw