ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
पिता की यादें
July 7, 2020 • संजय वर्मा 'दृष्टि' • कविता
*संजय वर्मा 'दृष्टि'
गुजर गए पिता की 
स्मृतियों को याद करके 
सोचता हूँ ,कितना सूनापन 
उनके बिना।
घर में उनकी सहेजी हुई 
हर चीज को जब छूता हूँ
तब उनके जिवंतता का
अहसास होने लगता।
डबडबाई आँखों से
एलबम के पन्ने उलटता 
तब जीवन में उनके 
संग होने का आभास होता।
पिता की बात निकलने पर 
अच्छाईयाँ मानस पटल पर 
स्मृतियों में उर्जा भरने लगती। 
जब परीक्षा में पास होता 
तब पिता शाबासी से 
पीठ थपथपाते 
आज उनके बिना पीठ सुनी। 
स्मृतियाँ अमर 
लेकिन यादों की उर्जा पर 
इसलिए कहा गया है कि 
करोगें याद तो हर बात 
याद आएगी ।
*मनावर जिला -धार (मप्र )
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw