ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
फिर से आज निखरना होगा
May 1, 2020 • पूजा झा • गीत/गजल


*पूजा झा

मानव कब तक हारोगे तुम
ईर्ष्या द्वेष के वारों से,
क्यों घबराते हो तुम इतना 
विपरीत हालात के वारों से। 
सब सहकर अब तुमको
जीवन पथ पर चलना होगा।

हे! मानव रूपी रत्न तुम्हें 
फिर से आज निखरना होगा।।

परशुराम भी नर थे तुमसे,
भर हुंकार वो वंदन करके।
मृत्युलोक की इस धारा को
पावन फिर से करना होगा।

हे! मानव रूपी रत्न तुम्हें
फिर से आज निखरना होगा।।

नर पिशाच बन बैठे नर तो,
उजड़ गए हों बसे शहर तो।
कर कोशिश बसाने की फिर,
उनको याद दिलाने की फिर।
नर में भी नारायण होते
ये एहसास दिलाना होगा।

हे! मानव रूपी रत्न तुम्हें
फिर से आज निखरना होगा।।

*पूजा झा,भागलपुर(बिहार)

 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw