ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
पापा हैं इस दुनियां में तो
July 6, 2020 • पुखराज पथिक • कविता
*पुखराज पथिक
पापा हैं इस दुनियां में तो,सबसे वारे न्यारे  हैं ।
इसीलिए वो मुझको  मेरी,जां से ज्यादा प्यारे है।
 
संघर्षों में  जीवन बीता ,दुःख से कभी न हारे वो 
मेरे जीवन की कश्ती के,केवल वही किनारे हैं
 
हाथ पकड़ कर वो ले जाते,चलना मुझे सिखाते वो
हर बच्चे के सच्चे, अच्छे,पापा सही सहारे हैं
 
पापा के बिन कैसे जिंदा,रहते पूछ यतीमों से
हर पल अपने दिन दुख से ही,कैसे रोज गुजारे हैं
 
पापा है तो सभी खुशी है,मांग भरे माँ तब हर दिन
पापा ये ही सूरज चंदा,लगते भले सितारे हैं
 
काम न आए कोई जग में,ये पापा बतलाते थे
सच बोले पुखराज सुनो बस,पापा एक हमारे हैं
 
*नागदा ज. (उज्जैन)
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw