ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
मुहब्बत की बेशक हसीं रात होगी
November 8, 2019 • संगीता श्रीवास्तव 'क़सक' • गीत/गजल

*संगीता श्रीवास्तव 'क़सक'*
 
मुहब्बत की बेशक हसीं रात होगी
निगाहों निगाहों में जब बात होगी !

इशारों इशारों में दिल से मिले दिल,
भले ही लबों से न कुछ बात होगी।

धड़कता है दिल इतनी रफ़्तार से क्यूं,
ये तेरी नज़र की ख़ुराफ़ात होगी।

करोगे बहाने कहाँ तक सनम तुम
मेरे हौसलों में भी कुछ बात होगी !

ये रुत भीनी भीनी फिजाओं में जादू,
ग़ज़ल ये तुम्हें मेरी सौगात होगी !

हां शिद्दत से चाहा है तुमको 'कसक'ने,
यकीनन ख़ुशी की ही बरसात होगी ।

*संगीता श्रीवास्तव "क़सक",छिंदवाड़ा मप्र
 

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733