ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
मेरी निंदा करने वाले
December 15, 2019 • डॉ. अनिता सिंह • कविता

*डॉ. अनिता सिंह*
मेरी निंदा करने वाले तेरा अभिनंदन करती हूँ।
तेरी ही निंदा से मैं हर पलआगे बढ़ती रहती हूँ।

तेरी ही निंदा से मैं आहत भी होती रहती हूँ ।
तभी तो सम्भल -सम्भल कर चलती हूँ ।

तुम सब मेरी निंदा में आकंठ वही पड़े रहते हो ।
पर मै अपनी निंदा सुन पहचान बनाती रहती हूँ।

जब तुम मेरी निंदा का रस ले आनंदित होते हो।
तब मैं कंटको के पथ में भी पथ खोजा करती हूँ।

हे! मेरे निन्दक मैं तेरा अभिवादन उर से करती हूँ।
क्योंकि तेरे ही निंदा से मैं हर पल आगे बढ़ती रहती हूँ.......।

*डॉ. अनिता सिंह
बिलासपुर (छत्तीसगढ़)
मो.न.9907901875

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com