ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
मेरी माँ (कविता)
October 8, 2019 • admin

*राजीव डोगरा*

हजार गलतियां करने पर भी
जो मुझे माफ करती है,
वो मेरी मां है
जो मुझे बस प्यार करती है।
मैं ढूंढता रहा इश्क
मैं तलाशता रहा मोहब्बत,
मगर वो मेरी मां है।
जो बिना बोले ही
मुझे बहुत प्यार करती है।
मैं लिखता रहा गम
मैं सुनाता रहा दर्द,
मगर वो मेरी मां है
जो बिना मेरे बोले ही
हर तड़फ मेरी समझा करती है।
मैं ढूंढता रहा सहारा
मैं तलाशता रहा इशारा
मगर वो मेरी मां है
बिना बोले ही हाथ थाम मेरा
हर मुसीबत में
संग मेरे चला करती है

*राजीव डोगरा, ठाकुरद्वारा मो. 9876777233  

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733