ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
मेरी जिंदगी सवारी है तुमने
June 4, 2020 • आशु द्विवेदी • कविता
*आशु द्विवेदी
मेरी जिंदगी सवारी है तुमने।
अपनी हर खुशी मुझ पर वारी है तुमने I
 
नन्हें नन्हें कदमों से जब मैं भागा करती थी।
एक निवाला खिलाने को माँ मेरे पीछे तुम दोडा करती थी।
 
डांट कर मुझे फिर बैठ बड़ा पछताती थी।
रुठती जो मैं कभी तो हँस कर मुझे मनाती थी। 
 
बीमार मैं होती पर नींद तुम्हें ना आती थी। 
मेरे ठीक होने की दुआ रात भर तुम करती थी।
 
बड़ी हो गई हूँ मैं पर तुम बिल्कुल ना बदली हो। 
आज भी अपने दिन की शुरुआत! माँ मुझे देख कर ही तुम करती हो। 
 
मुसीबत कोई भी हो तुम ढाल मेरी बन जाती हो।
इतना निस्वार्थ प्यार माँ कहाँ से लाती हो। 
 
मोल नहीं तुम्हारी ममता का कोई। 
मुझको तो जग में सबसे अनमोल माँ तुम लगती हो।
*सोनिया विहार, दिल्ली
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw