ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
मेरे तो रघुबीर हैं
April 2, 2020 • अशोक ' आनन ' • गीत/गजल
*अशोक ' आनन ' 
 
मेरे   तो -
रघुबीर हैं ।
            
               मैं    बाण -
               दु: खों की खान ।
               वो तीर हैं ।
 
मेरे तो -
रघुबीर हैं ।
 
              मैं पीत - वर्ण -
              धूल -  कण  ।
              वो समीर हैं ।
 
मेरे तो -
रघुबीर हैं ।
 
             मैं शुष्क - नैन -
             विरह   रैन  ।
             वो नीर हैं ।
 
मेरे तो -
रघुबीर हैं ।
 
             मैं अबला - सूरत -
             यौवन की मूरत  ।
             वो चीर हैं ।
 
मेरे तो -
रघुबीर हैं 
 
    *अशोक ' आनन ' ,मक्सी,जिला -शाजापुर ( म.प्र.)
 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com