ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
मजहब कहां जानता है
April 26, 2020 • निक्की शर्मा रश्मि • कविता

*निक्की शर्मा रश्मि

नन्हा बचपन हिंदु, मुसलमान कहां मानता है
कृष्ण,राम या रहीम वो भला कहां जानता है

न जात न पात देखता है बस अच्छा इंसान देखता है
दिल मिल गये जो दोस्ती का फिर कहां ईमान देखता है

मन मिल गयें कृष्ण,रहिम के देखो मजहब कहां मानता है
दिवारें देखो टुटी मजहब की फिर हिंदु,मुसलमान कहां देखता है

कृष्ण ,रहिम संगसंग देखकर बलिहारी सब जाते हैं
फिर मजहब की दिवारें देखो कहां बांध उन्हें पाते हैं

*निक्की शर्मा रश्मि,मुम्बई

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw