ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
मजदूरों के हाथों में यहां छाले पड़े हुए
May 1, 2020 • प्रेम पथिक • गीत/गजल

*प्रेम पथिक
मजदूरों के हाथों में यहां छाले पड़े हुए
तिजोरियों में कैद वहां उजाले पड़े हुए
                 
कारखानों में बहाते रातदिन जो पसीना
मुँहसे उनके कितनी दूर निवाले पड़े हुए
               
बड़ी मेहनत से उगाई थी उन्होंने फसलें
खेतों में सभी उनके आज पाले पड़े हुए
                 
सिसकियाँ है दफन दीवारों में जिनकी  
उन राजमहलों में आज जाले पड़े हुए

सिंह जैसी गर्जनाएं किया करते थे जो
होठों पर उनके आज तो ताले पड़े हुए

दिनमान- सी तेजस्विता के जो धनी थे
उनके चेहरे आज क्यों  काले  पड़े हुए

सोने की चिड़िया था हमारा देश 'पथिक'
रोटियों के आज हर तरफ लाले पड़े हुए

*प्रेम पथिक , उज्जैन 

 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw