ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
मजदूर का दर्द
June 12, 2020 • डॉ. भवानी प्रधान • कविता

*डॉ. भवानी प्रधान

गरीब हूँ
बदनसीब हूँ
मजबूर भी
मैं मजदूर हूँ
भूख से ब्याकुल
तपती दोपहरी
पैदल चलते
डरे सहमे
पैरों में छाले
निष्ठुर है
कोरोना काल
हाल है बेहाल
हाय ये कैसी
विपदा आई
दुःखों की अंतहीन
दासता लाई
महामारी का
भयानक प्रहार
थम गई दुनियां सारी
पर हम न थके
मंजिल तक पहुँचने
की चाहत
निरंतर आगे
बढ़ते रहे
न दिन का पता
न रात का चैन
अँधेरी निशा छाई
कैसी विवशता आई
रोते बिलखते
चलते जाते
एक -एक निवाले को
पड़ गए लाले
*डगनिया  रायपुर (छ. ग )

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw