ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
मैं जायदाद क्यूँ
June 17, 2020 • ज्ञानवती सक्सैना • कविता


*ज्ञानवती सक्सैना
हम नदी के दो किनारे हैं
हम नदी के दो किनारे हैं
जब चलना साथ साथ है
तो इतना आघात क्यूँ
तुम ,तुम हो तो
मैं मैं क्यूँ नहीं
मैं धरा हूँ तो
तुम गगन क्यूँ नहीं
मैं बनी उल्लास तो
तुम  विलास क्यूँ
मैं परछाई हूँ तुम्हारी
फिर अकेली क्यूँ
तुम एक शख्सियत हो तो
मैं मिल्कियत क्यूँ
तुम एक व्यक्ति हो तो
मैं एक वस्तु क्यूँ
तुम्हारी गरिमा की वजह हूँ
मैं फिर इतना अहम् क्यूँ
तुम मेरी कायनात हो तो
मैं जायदाद क्यूँ
मैं सृष्टि हूँ तो
तुम वृष्टि बन जाओ
मैं रचना हूँ तो
तुम संरचना बन जाओ
फिर देखो
पतझड़ भी रिमझिम करेंगे
और बसंत बौराएगी
संघर्ष की पथरीली राह भी मखमली हो जाएगी
नई भोर की अगवानी में
संध्या भी गुनगुनाएगी
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw