ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
मां तुझको मैं नमन कर रही
May 10, 2020 • डॉ.नीलम खरे • गीत/गजल

*डॉ.नीलम खरे


मां तुझको मैं नमन कर रही ,तेरा नित ही वंदन है ।
तुझसे ही तो हर संतति के,माथे पर नव चंदन है।।

तू है सागर जैसी गहरी,
नमन करे तुझको पर्वत भी झुक
तेरी महिमा को गाते हैं
चंदा-सूरज भी तो रुक 

मां तुझको प्रणाम कर रही,तू तो मेरा जीवन है ।
तुझसे ही तो हर संतति के,माथे पर नव चंदन है।।

हरियाली तू,खुशहाली तू,
लहरों का विस्तार है
आंचल में ब्रम्हांड समाहित,
महक रहा संसार है

तेरी जय-जयकार सदा ही,तुझसे मेरा उपवन है ।
तुझसे ही तो हर संतति के,माथे पर नव चंदन है।।

कौशल्या तू,और यशोदा,
तू ही जीजाबाई है
ब्रम्हा तुझ में,विष्णु तुझ में,
तुझ में तो प्रभुताई है

स्तुति,पूजन और आरती,तू तो भजन-कीर्तन है ।
तुझसे ही तो हर संतति के,माथे पर नव चंदन है।।

*डॉ.नीलम खरे,मंडला(म.प्र.)
 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw