ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
माँ ममता का छोर नहीं
May 9, 2020 • रामगोपाल राही • कविता

*रामगोपाल राही
 
 सृष्टि व अंम्बर के जैसे ,
माँ ममता का छोर नहीं |
ब्रह्मांण्ड में माँ से बढ़ ,,
होता कोई और नहीं ||
 
जीवन दाता  - कड़ी चेतना ,
सचमुच -माँ , माँ होती है |
सच पूछो तो माँ  ईश्वर से 
कम भी नहीं होती है ||
 
माँ रामायण माँ गीता है ,
माँ वेदों की वाणी है | 
माँ पुराणों की भाषा है , 
सृष्टि , -प्रथम कहानी है | 
 
माँ अमृत की धनी अनोखी ,
जिसका कहीं न सानी है |
मुखरित सरस्वती तो माँ है ,
देती सब को वाणी  है  ||
 
बिन माँ के जीवन कल्पना ,
कहाँ बताओ संभव है | ?
सृष्टि का सच माँ है सचमुच ,
 देती जीवन संभव है ||
 
माँ पूज्य है वंदनीय माँ ,
माँ आरती ईश्वर की | 
होती है सचमुच में समझो
माँ पूजा परमेश्वर की || 
 
माँ देवता माँ  परमेश्वर -
माँ से बड़ा न कोई भी |
माँ सृष्टि की प्रथम जरूरत,
सृजक -प्रकृति मोहि भी ||
 
माँ का रक्त रगों में सबके ,
उसे भुलाना मुश्किल है |
रोम रोम में  कर्ज़ दूध का ,
उसे चुकाना मुश्किल है ||
 
माँ के जैसा प्यार जगत में ,
संतति हित में देता कौन |?
माँ की जैसी कृपा दृष्टि सच ,
जीवन भर  रखता है कौन ||?
 
माँ का हृदय हमेशा तत्पर ,
संतति हित में होता है |
माँ से बढ़ हितैषी रिश्ता 
जग  में ,कौन  सा होता है ||
 
 माँ गोद का आनंद लेने ,
 ईश्वर भी जन्म लेते |
माँ बाहों में हर्षा हरि भी ,
माँ की वंदना करते ||
 
*रामगोपाल राही लाखेरी
 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw