ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
माँ के दामन में छांह
April 27, 2020 • मोहित सोनी • कविता

*मोहित सोनी

किसी की आह निकली,
किसी की चाह निकली ।
किसी के रास्ते सारे बन्द हुए,
किसी के लिए नई राह निकली ।
पूरी करते करते थक गया
ख्वाहिशें दिल में अथाह निकली ।
खुशी के उजले दिन कम निकले
गम की रातें ज्यादा स्याह निकली ।
मैं लिखता गया, दिल का दर्द,
और उनके दिल से वाह-वाह निकली ।
मत मनाओ उन्हें,
खामख्वाह जो रूठ गए,
रिश्तें-नातें जो झूठे थे
सारे पीछे छूट गए,
धूप से भरी इस दुनिया में, 
बस,
माँ के दामन में छांह निकली ।
 
*मोहित सोनी, कुक्षी
 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw