ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
लोग ज़माने भर के
June 15, 2020 • अशोक ' आनन '  • गीत/गजल

*अशोक ' आनन ' 
 
तन   से   उजले  ,  मन   से   मैले -
हो   गए   लोग   ज़माने   भर  के ।
 
तन   से   पास  ,   मन   से    दूर ।
ख़ुद   के   हाथों    ख़ुद   मज़बूर ।
स्वार्थ  की  उंगली  थाम सफ़र  में ;
निकले ,  फिर  भी   हो  गए   चूर ।
 
तन   से   बगुले  ,  मन   से   कौए -
हो    गए   लोग  ज़माने   भर   के ।
 
ख़ुद   की  डफली ,  ख़ुद  के  राग ।
दामन  पर  जिनके   लाखों    दाग़ ।
हारे    अक्सर   ,   कभी   न   जीते ;
फ़िर   भी   आए   कभी   न  बाज ।
 
तन   से   दहले ,  मन    से   नहले -
हो   गए   लोग   ज़माने   भर   के ।
 
दिवा  -  स्वप्न -  से आंखें  सज्जित ।
अपनी   पूॅंजी    कर    दी    अर्पित ।
आज  सड़क  पर  आ  गए फ़िर भी ;
तनिक  नहीं  जो  ख़ुद  से लज्जित ।
 
तन   से    बॅंगले  ,  मन   से   पगले -
हो    गए    लोग   ज़माने   भर   के ।
*मक्सी,जिला - शाजापुर ( म..प्र.)
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw