ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
कुर्सी (दोहे)
October 11, 2019 • admin

*सुषमा भंडारी*


खींचातानी हो रही,कुर्सी का है लोभ।।
मिल न पाये ये जिसको,उसको होता क्षोभ।।

खूब नचाये नाच ये,माया ठगनी नार।
कुर्सी इसकी भी गुरु,जाने सब संसार।।

कुर्सी का लालच किया,खूब बढाया पेट।
अपने और पराये का,खूब किया आखेट।।

संसद में बाजार के,जैसा होता हाल।
जो जाने व्यापार को,वो ही मालामाल।।

कभी बाप को मारते,कभी गधे को बाप।
कुर्सी की खातिर करें,निर्मोही आलाप।।

कुर्सी बडी लुभावनी,कुर्सी बड़ी कमाल।
जनता भोली बावरी,कुर्सी डाले जाल।।

उजले उजले तन हुये,हुये हैं काले मन।
कुर्सी के मदमस्त सब,जहरीले आंगन।।


*सुषमा भंडारी, फ्लैट नम्बर- 317,प्लैटिनम हाइट्स,सेक्टर-18 बी , द्वारका,नई दिल्ली- 110078 , मो.9810152263

यह भी पढ़े-

विकास के कुछ आयाम जो कितने हानिकारक हैं

आधुनिक जीवनशैली मे तेजी से बिगडता जा रहा मानसिक स्वास्थ

महाराजा अग्रसेन का उपकारहीन उपक्रम: एक निष्क और एक ईंट

उज्जैन में लगेगा देश भर के ख्यात व्यंग्यकारों का कुम्भ

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733