ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
कोरोना के संग साहित्यकार के रंग कार्यक्रम में डॉ.विनय कुमार पाठक
April 21, 2020 • शब्द प्रवाह समाचार • समाचार

आकाशवाणी रायपुर से कोरोना के संग साहित्यकार के रंग कार्यक्रम के अंतर्गत डॉ.विनय कुमार पाठक ( छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पूर्व अध्यक्ष) ने पाठकों को संदेश देते हुए देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी जी ने जो आह्वान किया है उसका हमें पालन करना है। पहला तो यह कि कोरोना को हराने के लिए सब को सामाजिक दूरी बनाकर रखना है दूसरा बहुत जरूरी हो तभी घर से बाहर निकले अन्यथा घर में रहें।कोरोना के जंग में हम सब को मिलकर साथ देना है और यह सबक भी लेना है कि हमारे पास इतनी आधुनिक तकनीकी की सुविधा होते हुए भी एक छोटे से विषाणु ने हम सब को हिलाकर रख दिया है। आज सबकी भलाई इसी में है कि जो जहाँ है वहीं पर 3मई तक घर में रहें ।बिना वजह अस्पताल में भीड़ न बढ़ाएँ। पुलिस का सहयोग करें , घर से बाहर निकलने पर मास्क का प्रयोग अवश्य करें, बाहर से आने पर कपड़े धोकर धूप में सुखाएँ, सेनेटाइजर से हाथ धोएँ, ठंढी चीजें खाने से बचे तथा प्रोटीन युक्त एवं ताजा भोजन करें,योगाभ्यास करें ,किसी से भी बिना वजह न मिलें ,किसी से हाथ न मिलाएँ,यदि बाहर जाते हैं तो लोगों से एक मीटर की दूरी बनाकर रखें। अति आवश्यक हो तभी घर से बाहर जाएँ अन्यथा घर में रहें क्योंकि यह लाकडाउन आपकी सुरक्षा के लिए है। एक साहित्यकार होने के नाते इन्होंने बताया कि अभी चारों तरफ लाॅकडाउन है तो जो मेरा लेखन का अधूरा काम पड़ा है उसको मैं पूरा कर रहा हूँ इसलिए लिखने पढ़ने वालों को कभी बोरियत नहीं लगती आप सब से भी मेरा यही निवेदन है कि अभी समय मिला है तो उस समय का सदुपयोग कीजिए परिवार के साथ समय बिताएं अच्छी-अच्छी किताबें पढ़ें यदि आप लिखते हैं तो लिखने की कोशिश कीजिए इस समय का सदुपयोग करिए। 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com