ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
कोरोना का कहर : सावधानी ही हैं उपचार 
March 23, 2020 • सुनील कुमार माथुर • लेख

*सुनील कुमार माथुर
कोरोना वायरस के कहर से समूचा विश्व समुदाय परेशान है । कोरोना का कहर हर किसी को सता रहा है । जहां देखों वहां इससे बचाव के प्रयास किये जा रहें है । इसे एक महामारी घोषित कर दिया गया है और कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए केन्द्र व राज्य सरकारें नाना प्रकार के जतन कर रही हैं । आगामी आदेशों तक पर्यटन स्थलों  , शिक्षण संस्थानों, कोचिंग क्लासों , सिनेमाघरों, संग्रहालयों, ऐतिहासिक इमारतों, सार्वजनिक स्थलों, मेलों, पार्क , खेल मैदानों पर सरकार नजर रख रहीं है और अनेक स्थानों पर आगामी आदेशों तक बंद रखने के आदेश दिये गये है जो सुरक्षा की दृष्टि से सही भी है । अतः ऐसे वक्त जनता को चाहिए कि वह इस बीमारी की गंभीरता को देखते हुए इसे मजाक में न ले और सभी आवश्यक सावधानियां बरतें ।
अधिकारी व स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी स्थान- स्थान पर लोगों को जागरूक कर रहें है । वे जागरूकता व समझाईश के लिए लगातार एडवाइजरी जारी कर रहें है । दुनियां के काफी देशों को कोरोना वायरस अपनी जकड में  ले चुका है । कोरोना के कहर के भय से एक तरह से जिन्दगी ठहर सी गयी है । वहीं मुनाफाखोरों ने यहां भी लाभ कमाने में पीछे नहीं रहें । दुनियां भर मे संक्रमण फैलने के बाद बाजार में हैंड सैनेटाइजर की मांग बढ गयी तब व्यापारियों ने इन्हें अधिक कीमत पर बेचने लगें और जहां एक ओर मौत का तांडव मचा है वहीं दूसरी ओर मुनाफा कमाया जा रहा है जिससे साबित होता है कि इंसानियत मर चुकी है और पैसा ही सब कुछ है । 
स्वास्थ्य की दृष्टि से सरकार ने स्कूल, काॅलेज, कोचिंग सेंटर बन्द कर दिये है लेकिन कुछ कोचिंग सेंटर वालों ने बच्चों की पढाई इस बन्द के दौरान खराब न हो इसलिए चालीस से अधिक प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी हेतु पच्चास से अधिक विषयों की पन्द्रह दिनों तक हजारों घंटे निःशुल्क Live  आनलाईन कक्षाएं ले रहें है । जो विधार्थियों के लिए एक सुनहरा अवसर ही कहा जा सकता है  ।
कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए इससे हम सबको मिलकर लडना होगा । इसे मात्र सरकार के भरोसे नहीं छोडा जा सकता । हमारी भी जिम्मेदारी हैं कि कहीं कोरोना का रोगी देखें तो तत्काल प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग को सूचित करें ताकि रोगी का समय पर उपचार हो सकें एवं रोग आगें न बढें । इस वायरस से आज दुनियां ठहर सी गयी है । हर कोई दुःखी व परेशान है । लेकिन हम एक होकर इससे लडेंगे तो जन - जीवन एक बार फिर से सामान्य हो जायेगा । हमें बस थोडी-सी सावधानी बरतने की जरूरत है । सावधानी बरतने में ही समझदारी है । 
कोरोना वायरस से बचने के लिए संक्रमित वस्तुओं , भीड़भाड़ से बचें, मेलों में सामान्य सहभागिता से बचें, मेले में जानें पर एक - दूसरे से दूरी बनायें रखें, सर्दी, जुकाम, खांसी, बुखार पीडित व्यक्ति मेलों व सार्वजनिक स्थलों पर न जायें, कहीं भीड़भाड़ वाले क्षेत्र में जाना अति आवश्यक हो तो वायरस संक्रमण रोधी मास्क , टोपी और सैनेटाइजर से स्व - प्रतिरक्षा सुनिश्चित करें । स्वच्छता का ध्यान रखें । समय- समय पर उचित तरीके से हाथ साफ करते रहें । छींकने व खासंने पर मुंह ढके और सार्वजनिक स्थलों पर न थूके ।  यह बीमारी अब तक 152 देशों में फैल चुकी है । यह बीमारी कोरोना वायरस संक्रमित  व्यक्ति के सम्पर्क में आने से होती है । अतः कोरोना संक्रमण वाले व्यक्ति से दूर रहना ही बचाव हैं । मोबाइल फोन को भी नियमित रूप से सैनेटाइजर से साफ करें । सार्वजनिक स्थलों की रेलिंग आदि को रोगाणुनाशक से नियमित रूप से साफ करें ।
विश्व स्वास्थ्य संगठन ( डब्ल्यू एच ओ ) ने कोरोना वायरस बीमारी को महामारी घोषित किया है अतः ऐसे में हमें अपनी जिम्मेदारी को समझना होगा और मेलों व भीड़भाड़ वाले सामाजिक आयोजनों में जानें से बचना होगा ।अतः कोरोना वायरस से घबराएं नहीं लेकिन आवश्यक सावधानियां जरूर अपनाएं ।
 
*सुनील कुमार माथुर 
33 वर्धमान नगर शोभावतो की ढाणी खेमे का कुआ पालरोड जोधपुर राजस्थान 
 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com