ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
कोरोना - 4 
May 19, 2020 • रामगोपाल राही • कविता

*रामगोपाल राही
 
फकीरी खैरात ,कोरोना ,
बाँट थक गए हाथ कोरोना |
मजदूर बोले -रोजगार दो ,
ना पैकेज सौगात कोरोना ||
 
रोजगार छिन गया कोरोना ,
चैन सभी छिन गया कोरोना |
भूख बेबसी  ,आँसू पीते ,
जीवन ही छिन गया कोरोना ||
 
देश में चारों ओर कोरोना ,
मजदूरों का शोर कोरोना |
शहर खाली हुए ,गाँवों में ,
चले घरों की ओर कोरोना ||
 
बजट तुम्हारे नाम कोरोना ,
राहत पैकेज नाम कोरोना |
 क्षति अपरमित उसके बदले ,
पैकेज है ईनाम कोरोना ||
 
रावले  का तेल कोरोना ,
लो झोली में झेल कोरोना |
रोजगार बिन जीवन सूना ,
सभी व्यर्थ  बेमेल कोरोना ||
 
हो रहा मिटियामेट कोरोना ,
लॉकडाउन का फैक्ट कोरोना |
लॉकडाउन से खाली खाली ,
मजदूरों का पेट कोरोना ||
 
पर जीतेंगे जंग कोरोना ,
उम्मीदें हैं संग कोरोना |
देश से तेरा नाम मिटेगा ,
हम सब हैं दबंग कोरोना ||
 
देंगे तुम्हें लताड़ कोरोना ,
शेरों से दहाड़ कोरोना |
मास्क ,दूरी ,सेनेटाइज से ,
देंगे तुम्हें पछाड़ कोरोना ||
 
लिया उपाय खोज कोरोना ,
खूब रिकवर रोज कोरोना |
हजारों में तुम बढ़ते - नित ,
तोड़ लिया पर सोच कोरोना ||
 
समझो समझो ,-चार कोरोना ,
क्या पाओगे मार कोरोना |
निर्मम ,निष्ठुर ,नालायक तुम 
अब तो जाओ सिधार कोरोना ||
 
रब से है अरदास कोरोना ,
ईश्वर से है आस कोरोना 
सचमुच भारत वर्ष से तेरा , ,
होगा सत्यानाश कोरोना ||
 
लॉकडाउन प्रभाव कोरोना ,
रोजगार अभाव कोरोना |
खत्म हुए प्रतिबंध भले ही ,
उत्साह न लगाव कोरोना  ||
 
*रामगोपाल राही लाखेरी
 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw