ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
कूडादान
November 24, 2019 • सुनील कुमार माथुर • कविता

*सुनील कुमार माथुर*
आज देश को साफ सुथरा रखने के लिए 
हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 
सफाई अभियान चला रखा है 
वे जन जन से यही आव्हान कर रहे है कि
स्वच्छता ही हमारे अच्छे  स्वास्थ्य की पहचान है 
वही दूसरी हम अपने स्वास्थ्य के प्रति
कितने जागरूक है 
यह बात किसी से छिपी हुई नहीं है 
आमजन ने अपने पेट व मस्तिष्क को
कूड़ेदान बना डाला है 
पेट में क्या डालना है और क्या नहीं 
पहले इसका निर्धारण कीजिए 
अन्यथा आपका जीना दुर्भर हो जायेगा
आज के आपाधापी भरे समय में 
व्यक्ति पेट व मस्तिष्क में 
वह सब कुछ डाल रहा है 
जो नहीं डालना चाहिए 
आज मस्तिष्क को अनेक 
विचारों से भरा जा रहा हैं और 
पेट को तामसी भोजन से
इसी का यह परिणाम है कि 
व्यक्ति के साथ समाज का 
तेजी से पतन होने लगा है 
वही लोगों को विभिन्न बीमारियों ने घेर लिया है 
 
*सुनील कुमार माथुर ,33 वर्धमान नगर शोभावतो की ढाणी खेमे का कुआ पालरोड जोधपुर 342001 राजस्थान 
 
अब नये रूप में वेब संस्करण  शाश्वत सृजन देखे
 

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733