ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
किसको सुनाऊं अपने मैं जज्बात आजकल 
June 17, 2020 • प्रो रवि नगाइच  • गीत/गजल

*प्रो रवि नगाइच 

किसको सुनाऊं अपने मैं जज्बात आजकल 
बदले  हुए शहर के हैं हालात आजकल 

बस्ती  के सारे नामवर आगे  खड़े हुए
 बटने लगी है  जिस जगह खैरात आजकल 

दिल में उतर गए हो तुम महसूस हो रहा 
कटते नहीं है बिन तेरे  दिन रात आजकल 

महका गई बदन मेरा  खुशबू  भरी हवा
निकली है तेरी याद की बारात आजकल 

तहजीब और तमीज  की बातें फिजूल है 
अच्छे दिनों की हो गई शुरुआत आजकल 

कागज की  एक कश्ती जो मैने बनाई थी 
उसको  चलाने आ गई बरसात आजकल

लफ्जों की करवटें मुझे खामोश कर रही 
कैसे कहूं जुबान से हर बात आजकल 
*शास. इंजी कॉलेज उज्जैन

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw