ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
ख्वाबों के परिंदे (कविता)
October 15, 2019 • admin

*मीरा सिंह 'मीरा'*
ख्वाबों के परिंदे
आंखों में समा जाते हैं
मन की साख पर बैठ
जीवन का तराना गाते हैं
चोरी चोरी चुपके चुपके
मायूसी रुखसत होती है
भोर की नव किरणों संग
खुशी की आहट आती  है
ठंडी  पुरवाई बहती है
बिखरी  जुल्फें समेट
निशा  विदा लेती है
उमंगे लेती है
मन में हिलोरें
छँट जाते हैं
मायूसी के कोहरे/
ख्वाबों के कुछ परिंदे
आंखों में समा जाते हैं
गूंज उठती है शहनाई
मौसम सुहाना कर जाते हैं ।

*मीरा सिंह 'मीरा',प्लस टू महारानी ऊषारानी बालिका उच्च विद्यालय डुमराँव जिला बक्सर बिहार 802101

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733