ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
खूबसीरत  से तुम बना  रखना
June 12, 2020 • हमीद कानपुरी • गीत/गजल

*हमीद कानपुरी

खूबसीरत  से तुम बना  रखना।
आदमी  साथ में  भला  रखना।
 
याद  वादे   ज़रा  ज़रा   रखना।
हाथ खाली न झुनझना रखना।
 
भूलना   राह   मत  भलाई   की,
ज़ह्न में सबका तुम भला रखना।
 
जब खुदा कुछ तुम्हे नवाज़े तो,
फिर बड़ा  खूब दायरा  रखना।
 
दूसरों को   बुरा  न कहना तुम,
सामने  अपने  आइना  रखना।
 
राह  चुनना   सदा  भलाई  की,
हर  बुऱाई  से फासला  रखना।
 
पहली फुर्सत में आ रहा  हूँ मैं,
गीत प्यारा सा गुनगुना रखना।
 
काम  करना   हमीद  फुर्ती  से,
हौसलों को  नहीं  दबा  रखना।
अब्दुल हमीद इदरीसी,कानपुर
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw