ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
खतरा अभी टला नहीं है
May 22, 2020 • डॉ.अनिल शर्मा 'अनिल' • कविता

*डॉ.अनिल शर्मा 'अनिल'

खतरा अभी नहीं टला है, सावधान रह,चलो संभल।
आज सुरक्षित रहे अगर तो तभी देख पाएंगे कल।।
खुले बाजार, भीड़-भाड़ से,खूब दिख रही है रौनक,
भीड़भाड़ और लापरवाही,ये घातक होगी बेशक,
संक्रमण को देगी बढ़ावा, ये असुरक्षित चहल पहल।
खतरा अभी नहीं टला है, सावधान रह चलो संभल ।।
सभी के मुंह पर मास्क लगा हो,दिखता नहीं बाजारों  में,
होगी कैसे फिजिकल दूरी, जुट रही भीड़ हजारों में,
ऐसे सुरक्षित रहोगे कैसे,मत करिए खुद से ही छल।
खतरा अभी नहीं टला है, सावधान रहचलो संभल।।
स्वयं सुरक्षा करना अपनी,ये खुद की ही  जिम्मेदारी,
ढक रखो मुंह,बाहर जाओ कम ,एक बार करो खरीदारी,
अपनाओ फिजिकल दूरी को, हाथों को सेनेटाइजर मल।
खतरा अभी नहीं टला है, सावधान रह,चलो संभल।।
खतरे को न कम आंकों तुम, मत बरतो लापरवाही,
घर में रहो सुरक्षित अपने, यूं  न  करो  आवाजाही,
जिसका कोई इलाज नहीं अभी, बीमारी वो रही टहल।
खतरा अभी नहीं टला है, सावधान रह, चलो संभल।।

*डॉ.अनिल शर्मा 'अनिल',धामपुर

 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे- http://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw