ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
कवि मन
June 6, 2020 • डॉ. अहिल्या तिवारी • कविता

*डॉ. अहिल्या तिवारी

जब पढ़ती हूँ
कोई कविता, तब
मेरा मन
दुविधा में
पड़ जाता है,
क्यों कहते हैं लोग
कवि को पागल
क्या पागल की लेखनी
इतनी सुन्दर होती है
कि, उतर आती है
काव्य सुन्दरी
पन्नों पर
क्यों पागल की लेखनी
काम करती है
तलवार का।
क्या पागल भी
दिखा सकते हैं रास्ता।
जब थक जाती हूँ
सोच कर, तो मेरा मन
समझ जाता है कि
पागल कवि नहीं
पागल दुनिया है
जो उल्टे-सीधे
कारनामों से हिला देती है
कवि का हृदय
झकझोर देती है
किसी की चीख
रुला देते हैं
किसी के आँसू
और कोई ”कवि मन“
उबाल हृदय का
निकाल देता है
पन्नों पर।

रायपुर, छत्तीसगढ

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw