ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
कैलाश सोनी सार्थक
June 7, 2020 • मंजिलों की चाह रख बढ़ता हूँ मैं • गीत/गजल

*कैलाश सोनी सार्थक

मंजिलों की चाह रख बढ़ता हूँ मैं!
बस,हुनरमंदों में ही रहता हूँ मैं!!1

चाहते हैं लोग मुझको इसलिए!
प्रेम का हर फलसफ़ा लिखता हूँ मैं!!2

लोग बेगाने मुझे लगते नहीं!
स्वाद जब अपनत्व का चखता हूँ मैं!!3

हर जगह पर चीखकर कहता नहीं!
दिल में अपने देश को रखता हूँ मैं!!4

टूट जाए दिल जरा सी बात पर!
 ऐसी बातें,सुन नहीं कहता हूँ मैं!!5

जिंदगी पल में बिखर जाए नहीं!
बेवफाओं से सदा डरता हूँ मैं!!6

खूबियों को लोग मेरी मानते!
मर गया पर,आजतक दिखता हूँ मैं!!7

हूँ बहुत अनमोल लेकिन क्या करूँ!
मैं ईमाँ हूँ,आजकल बिकता हूँ मैं!!8

शब्द हूँ मैं,सार हूँ, सोनी तभी!
गीत गजलों में सदा सजता हूँ मैं!!9

*नागदा (उज्जैन)

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw