ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
काव्यांगन मंच पर प्रो. शरद नारायण खरे ने किया एकल काव्यपाठ
May 22, 2020 • शब्द प्रवाह समाचार • समाचार

मण्डला---वॉट्सएप के लोकप्रिय साहित्यिक मंच काव्यांगन ने गत दिवस ऑनलाइन एकल काव्यपाठ का आयोजन किया। इस विशेष कार्यक्रम के अंतर्गत विख्यात कवि प्रो. शरद नारायण खरे, मण्डला (मध्यप्रदेश) ने काव्यपाठ किया। आपने कोरोना को हराने के लिए लोगों को उत्साहित किया और कहा-  "अब विराम में भी गति लगती, हर्ष भरा यह आज सफ़र है।"   
कार्यक्रम के निर्देशक-संपादक, प्रस्तुतकर्ता गीतकार राजकुमार धर द्विवेदी, रायपुर रहे। मुख्य-अतिथि अनिता मंदिलवार सपना, अंबिकापुर रहीं। कार्यक्रम की अध्यक्षता कानपुर की जानी-मानी कवयित्री रंजना मिश्रा ने किया। विशिष्ट अतिथि कवयित्री और गायिका पूनम दुबे और आशा पांडेय, अंबिकापुर रहीं। कार्यक्रम का सफल संचालन दिल्ली की युवा कवयित्री कामना मिश्रा ने किया। उन्होंने अपनी मधुर वाणी से कार्यक्रम में चारचांद लगाए। कार्यक्रम के मार्गदर्शक वरिष्ठ पत्रकार और साहित्यकार जयप्रकाश पांडेय, मेरठ रहे।
कार्यक्रम की शुरुआत रंजना मिश्रा की सरस्वती वंदना से हुई। इसके बाद कामना मिश्रा ने प्रो. खरे को काव्यपाठ के लिए आमंत्रित किया। इस मौके पर मार्गदर्शक जयप्रकाश पांडेय ने कहा कि हर दिन हमें कुछ-न-कुछ नया सीखना चाहिए। इससे ही प्रगति होगी। राजकुमार धर द्विवेदी ने कहा कि मंच के सभी कवियों को प्रोत्साहन देने के लिए एकल काव्यपाठ शुरू किया गया है। यह कार्यक्रम हर हफ्ते बुधवार को शाम सात बजे होगा। इसमें बारी-बारी से सभी को मौका दिया जाएगा। कार्यक्रम की मुख्य-अतिथि अनिता मंदिलवार सपना ने कहा कि ऐसे कार्यक्रम होते रहने चाहिए, ताकि लोगों को कुछ सीखने को मिले। उन्होंने इस कार्यक्रम की मुक्तकंठ से तारीफ की। उन्होंने प्रो. खरे साहब की रचनाओं की मुक्तकंठ से तारीफ की। कार्यक्रम की अध्यक्ष रंजना मिश्रा ने प्रो. खरे की रचनाओं को खूब सराहा और कहा कि एकल काव्यपाठ से किसी कवि का पूरा व्यक्तित्व सामने आता है। काव्यांगन का यह नवाचार सराहनीय है। विशिष्ट अतिथि पूनम दुबे और आशा पांडेय ने भी कार्यक्रम को सराहा। 
कार्यक्रम के दौरान श्रोताओं और रचनाकारों ने प्रो.खरे से कुछ सवाल किए। सवाल कामना मिश्रा, प्रिंशु लोकेश तिवारी, पत्रकार सुरेशचंद्र पांडेय, अनिता मंदिलवार, वंदना पांडेय, मन्शा शुक्ला, पूनम दुबे, दीपमाला पांडेय, खंडवा, सुमन सोनी, राजेश तिवारी रंजन आदि ने किया।  प्रो. खरे ने सवालों के सटीक जवाब दिए। कार्यक्रम में दादा रामलाल सिंह परिहार और पत्रकार सुरेशचंद्र पांडेय ने सभी का उत्साहवर्धन किया। अंत में आभार-प्रदर्शन मंच के एडमिन राजकुमार धर द्विवेदी ने किया।
 
साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw