ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
जिंदगी रंज-ओ-गम की निशानी पे चलती है
June 13, 2020 • पूजा झा • कविता

*पूजा झा

जिंदगी रंज-ओ-गम की
निशानी पे चलती है
ऐसे किसी को मोह्हब्बत 
भी कहाँ मिलती है!

पाकर भी जमाने से
लाखों के सितम
भीड़ों में ज़नाज़े के
तन्हाई कहाँ दिखती है!!

मयस्सर नहीं होता 
किसी को कुछ भी
पाने की चाहत फिर भी
कहाँ मिटती है!!

ख़्वाबों के घरौंदों को
सजाता है जमाना
हक़ीक़त में उसकी 
तामील कहाँ होती है!!

चलते हैं  सितारों पर
हर वक़्त जो मुसाफ़िर
उनको वीराने में
सुकूँ भी कहाँ मिलती है!!!

*जंदाहा,हाजीपुर

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw