ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
जीवन का आधार है प्रेम
October 8, 2020 • ✍️रश्मि वत्स • कविता
✍️रश्मि वत्स

जीवन का आधार है प्रेम ।
हर दिल की दरकार है प्रेम ।
प्रेम बिना ये जग सूना,
रिश्तों का वस मर्म है प्रेम।

प्रेम तो एक अहसास है ।
शब्दों मे नही वयक्त है।
अपनत्व और जज्बात का,
वस कण,कण में ये व्याप्त है ।

इसका ना कोई रंग ना रूप है।
हर वंधन से ये मुक्त है।
प्रेम तो बस है एक अनभूती ,
संवेदना और विश्वास है ।

शबरी के झूठे बेरों में प्रेम।
मीरा के प्याले में प्रेम।
द्रौपदी का चीर बढाये,
भक्ति मे सराबोर है प्रेम।

सच्चा प्रेम जिसे हो जाये।
फिर कष्ट न उसके आडें आए ।
वेदना सहकर भी वह,
जीवन पर्यंत उसे निभाए।

*मेरठ(उत्तर प्रदेश)

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw