ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
जनता कर्फ्यू में स्वागत है
March 21, 2020 • सुरेश सौरभ • व्यंग्य

*सुरेश सौरभ
 
मैं जब रात में बिस्तर पर सोने जाता हूं, तो यह सोचता रहता हूं कि कैसे मेरी पार्टी का प्रचार कार्य होता रहे। कैसे मेरी पार्टी आगे बढ़ती रहे, कैसे हमारी सरकार हमेशा बनी रहे और कैसे मेरा आस्तित्व हमेशा कायम रहे। चाहे सीमा पर हमला हो, चाहे देश में आर्थिक भूचाल आए ,चाहे देश की कंपनियां रोज घाटे में डूबतीं रहें, चाहे देश में सीएए के विरोध में लोग रोज मरते-खपते रहे, चाहे देश के बेकार पकौड़ा बेचते रहे, गरीबों का पैसा लेकर चाहे बैंकें डूबतीं रहें, चाहे लोगों की गाढ़ी कमाई लेकर विजय माल्या, मेहुल चोकसी जैसे नालायक देश से भागते रहे, पर हमें बस अपनी पार्टी से और पार्टी के प्रचार-प्रसार से ही मतलब है। पार्टी है, तो हम है, हम है, तो यह देश है, देश है तो आप सब है। आप सब हैं, तो देश में सबका साथ सबका विकास है। इसके लिए चाहे हमें विधायकों को मुर्गा-मुर्गी की तरह पकड़-पकड़ कर खरीदना पड़े, तो कोई गम नहीं, हम हर तरीके से संघर्ष करते हुए अपनी पार्टी को, अपने देश को बचाते रहेंगे। इसलिए मैं अपने मन की बात आप से शेयर करता हुआ कह रहा हूं कि जनता कर्फ्यू में आप अपने घरों से बाहर बिलकुल न निकलें और घर बैठ कर ही जयश्री राम करते हुए, राम मंदिर जैसे महान कार्य के लिए यानी मंदिर निर्माण के लिए विचार करते रहें, विचार ही कार्य बनतें हैं और कार्य से ही लोग महान बनतें हैं जैसे कि मैं धीरे-धीरे बनता जा रहा हूं। मित्रों मेरा पूरा विश्वास है कि जनता कर्फ्यू में जिनके घर हैं, वे घरों से नहीं निकलेंगे और जिनके घर नहीं हैं जो फुटपाथ पर रहतें हैं, जो मारे-मारे घूमतें हैं उनके लिए हमारी सरकार तत्काल तमाम आलीशान भवन भगवान विश्वकर्मा से बनवा कर दे देगी। हमें हर हाल में जनता की चिन्ता है, इसलिए कोरोना को भगाने में आप हमारा सहयोग करते हुए हमारे कदम से कदम मिलाकर चलतें रहें और हमारी पार्टी का प्रचार करते हुए राष्ट्र के विकास में भागीदार बनतें रहें । हम इस कोरोना दानव के लिए महायज्ञ करायेंगे। हवन करायेंगे। हर तरीके से इसे देश से भगा कर ही मानेंगे। इसलिए मेरा आप से निवेदन है कि जनता कर्फ्यू में आप एक भक्त की तरह हमारा सहयोग करें। जय श्री राम! 
 
*सुरेश सौरभ
 लखीमपुर खीरी उत्तर प्रदेश
 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com