ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
इस घड़ी ने ...घड़े की
May 29, 2020 • प्रीति शर्मा 'असीम' • कविता
*प्रीति शर्मा 'असीम'
 
इस घड़ी ने घड़े की,
कीमत बता दी।
 
जो लोग...
मिट्टी से टूट चुके थे। 
मिट्टी ने , 
आज अपनी ,
उनको अहमियत बता दी।
 
इस घड़ी ने, 
घड़े की कीमत बता दी।
 
युगों- युगों से यह बताते रहे। 
साथ मिट्टी के जीवन गीत गाते रहे।
 
इस घड़ी ने,
घड़े की कीमत बता दी।
 
जो लोग भूल चुके थे।
आधुनिकता की दौड़ में ,
घड़ा याद आता था।
अंतिम समय के मोड पे।
 
आज वही घड़ा याद आ रहा है। 
जीवन घड़ी के ,
इस छोर से उस छोर में।
*नालागढ़ हिमाचल प्रदेश
 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw