ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
होठ मुस्कराते हैं और आँखों में पानी है (गीत)
October 16, 2019 • admin
*डॉ प्रतिभा सिंह*
जिंदगी के पन्नों पर कैसी ये कहानी हैं
होठ मुस्कराते हैं और आँखों में पानी है।
 
तेरे दिल की गलियों में मन मेरा बहकता है
खुशबू बनके यादों में गुल कोई महकता है
बारिशों की बूंदों पर तेरी ही निशानी है
होठ मुस्कराते हैं और आँखों में पानी है।
 
शाम जब हुई तो शमा सोचती है जलते हुए
तारों को निकलते हुए और सूरज को ढलते हुए
रोज जलके बुझना भी कैसी जिंदगानी है
होठ मुस्कराते हैं और आँखों में पानी है।
 
सूखे- सूखे होठों की प्यास तो बुझाए ना
ख्वाब सारी नदियों का फिर भी मुस्कराए ना
सागर तेरी मौजों की कैसी ये रवानी है
जिंदगी के पन्नों पर कैसी ये कहानी है
होठ मुस्कराते हैं और आँखों में पानी है।।
 
*डॉ प्रतिभा सिंह,किशुनपुरा ,आजमगढ़ मो .8795218771

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733